भारतीय भाषाओं द्वारा ज्ञान

Knowledge through Indian Languages

Dictionary

Definitional Dictionary of Metallurgy (English-Hindi) (CSTT)

Commission for Scientific and Technical Terminology (CSTT)

A B C D E F G H I J K L M N O P Q R S T U V W X Y Z

Permet

पर्मेट
एक ताम्र मिश्रातु जिसमें 49% तांबा, 21% निकैल और 30% कोबाल्ट होता है। यह चुंबकीय होता है और इसका उपयोग स्थायी चुंबकों को बनाने में किया जाता है।

Perminvar

परमिनवार
निकैल मिश्रातुओं की श्रेणी जिनमें निकैल, क्रोमियम और कोबाल्ट के अतिरिक्त मैंगनीज अथवा मॉलिब्डेनम होता है। इनका अत्यल्प चुम्बकीय शैथिल्य होती है और मॉलिब्डेनम की उपस्थिति में उच्च आरंभिक चुंबकशीलता होती है।

Pewter metal

प्यूटर धातु
वंग मूलक मिश्रातु जिसे आरंभ में अलंकरण-पात्रों के लिए बनाया गया था। रोमन प्यूटर में 70% वंग और 30% सीसा होता है। ट्यूडर प्यूटर में 90% तक होता है। एक अन्य मिश्रातु 91% वंग और 9% ऐन्टिमनी होता है जो अधिक कठोर होता है। सीसे की मात्रा बढ़ाने से मिश्रातु का रंग काला पड़ जाता है जो भोजन के लिए प्रयुक्त पात्रों के लिए अनुपयुक्त है। वंग की मात्रा घटाने पर अतिरिक्त ऐन्टिमनी मिलानी चाहिए ताकि मिश्रातु पर पॉलिश की जा सके।
प्यूटर में सीसे की अवांछनीयता के कारण अनेक सीसा रहित श्वेत धातु मिश्रातु बनाए गए हैं।

Phase

प्रावस्था
किसी मिश्रातु तंत्र का रसायनतः समांगी और सामान्यतया तापगतिकीयतः स्थायी घटक। यह घटक कोई शुद्ध धातु, धात्विक यौगिक, धातु और उपधातु (Metalloid) का यौगिक अथवा कोई ठोस विलयन हो सकता है। किसी पदार्थ की प्रत्येक अवस्था पृथक प्रावस्था बनाती है।

Phase diagram

प्रावस्था आरेख
किसी मिश्रातु-तंत्र में प्रावस्था-क्षेत्रों और प्रावस्था-अभिक्रियाओं के साम्य-तापों और संघटन-सीमाओं का आलेखी निरूपण। यह ताप और संघटन की सीमाओं को प्रदर्शित करने वाले तापीय और अन्य आँकड़ों से प्रदर्शित किया जाता है। किसी द्वि-अंगी तंत्रों में सामान्यतया ताप को कोटि (Ordinate) और संघटन को भुज (Abscissa) पर रखा जाता है।
इसे रचना-आरेख (Constitutional diagram) भी कहते है। साम्य अवस्थाओं को चित्रित करने के कारण प्रावस्था-आरेख को साम्यावस्था आरेख भी कहते हैं।

Phase rule

प्रावस्था नियम
यदि कोई पदार्थ भिन्न प्रावस्थाओं में पाया जाए तो उसमें साम्वावस्था तब उत्पन्न होगी जब प्रत्येक प्रावस्था का रासायनिक विभव समान हो। यह विभव स्वातंत्रय कोटि अर्थात् संघटन, ताप और दाब पर निर्भर करता है। इस नियम के अनुसार प्रावस्थाओं (P) की संख्या और स्वातंत्र्य कोटि (F) का योग, घटकों की संख्या (C) और 2 के योग के बराबर होती है—
P + F = C + 2
धातु-तंत्र में दाब का प्रभाव नगण्य होता है अतः यह नियम P + F= C + 1 हो जाता है।

Phos copper

फॉस तांबा
एक ताम्र-मिश्रातु जिसमें 7-10 प्रतिशत तक फॉसफोरस होता है। इसका गलनांक कम और विद्युत चालकता अधिक होती है। इसका उपयोग विद्युत चालकों को बनाने में किया जाता है।

Phosphate rock

फॉस्फेट शैल
कैल्सियम फॉस्फेट जो स्थूल निक्षेप के रूप में पाया जाता है। इसमें शुद्ध अवस्था में 32.1 प्रतिशत P₂O₅ होता है।

Phosphatizing

फॉस्फोटीकरण
किसी धातु पर फॉस्फेट का लेप करना। इसके प्रमुख लाभ इस प्रकार है : लोहे या इस्पात पर पेन्ट या अन्य कार्बनिक पदार्थ को आसंजित करने में आसानी रहती है। निघर्षण (Wear) और कणपाटन (Galling) कम हो जाता है और अतप्त अभिक्रिया में आसानी रहती है। (3) वस्तु जंगरोधी हो जाती है।
जंगरोधी बनाने के लिए लोहे या इस्पात को मैंगनीज लोह फॉस्फेट अथवा जस्त लोह फॉस्फेट के गरम विलयन में डुबाया जाता है जिससे मूल धातु पर फॉस्फेट का लेप जमा हो जाता है। इस प्रकार उत्पन्न लेप के संरक्षी प्रभाव को बढ़ाने के लिए उसे क्रोमिक अम्ल के विलयन में डुबाकर तेल से बंद कर दिया जाता है। इसे एट्रामेंट प्रक्रम भी कहते हैं।
देखिए— Parkerising भी

Phosphor bronze

फॉस्फर कांसा
पिटवाँ और ढलवाँ ताम्र-मिश्रातुओं की एक श्रेणी पिटवाँ मिश्रातुओं में 23 प्रतिशत तक वंग 0.25 प्रतिशत तक फॉस्फोरस होता है तथा ढलवाँ मिश्रातुओं में 14 प्रतिशत तक वंग, –प्रतिशत जस्ता, अधिकतम 1% प्रतिशत निकैल , 0.5 प्रतिशत फॉस्फोरस और 3.5 प्रतिशत तक सीसा होता है। पिटवाँ मिश्रातुओं का उपयोग स्प्रिंग आदि में तथा ढलवाँ मिश्रातुओं का उपयोग बेयरिंग आदि में किया जाता है।
देखिए– Bronze भी

Phosphor copper

फॉस्फर तांबा
एक मास्टर मिश्रातु जिसमें 10-15 प्रतिशत फॉस्फोरस होता है। इसका उपयोग फॉस्फोरस को मिलाने तथा तांबा और उसके मिश्रातुओं के वि-ऑक्सीकरण के लिए किया जाता है।

Phosphor tin

फॉस्फर वंग
मास्टर वंग मिश्रातु जिसमें अल्प मात्रा में सीसा, तांबा, ऐन्टिमनी, ऐलुमिनियम आदि और 10 प्रतिशत तक फॉस्फोरस होता है। इसका उपयोग फॉस्फोरस मिलाने तथा वंग मूलक मिश्रातुओं, कांस्यों और गन मैटल में होता है।

Phophorous printing

फॉस्फोरस मुद्रण
इस्पात-पृष्ठ पर फॉस्फोरस के वितरण को व्यक्त करने की विधि। इसमें फोटोग्राफी कागज अथवा निस्यंदक-पत्र को एक जलीय विलयन में डुबाया जाता है जिसमें 35 प्रतिशत नाइट्रिक अम्ल और 5 प्रतिशत अमोनियम मॉलिब्डेट घुला होता है। तत्पश्चात कागज से पानी निकालकर उसे लगभग 5 मिनट तक इस्पात पृष्ठ पर बिछा दिया जाता है। फिर उसे हटाकर एक अन्य जलीय विलयन में डेवलेप किया जाता है जिसमें 35 प्रतिशत हाइड्रोक्लोरिक अम्ल होता है और थोड़ी फिटकरी और 5 मिली स्टैनस क्लोराइड का संतृप्त विलयन होता है। प्रिंट पर बने नीले स्थानों की स्थिति और तीव्रता से फॉस्फोरस की मात्रा और उसके वितरण का पता लगता है।

Photodefectoscope

प्रकाश दोषदर्शी
प्रकाश वैद्युत माप द्वारा धातुओं में विद्यमान दोषों को ज्ञात करने के लिए प्रयुक्त यंत्र।

Photogrid process

प्रकाश ग्रिड प्रक्रम
अतप्त-संपीडन आदि क्रियाओं में धातु-विरूपण का अध्ययन करने के लिए प्रयुक्त प्रक्रम। इसमें नमूने के पृष्ठ पर फोटोग्राफीयतः आयताकार अथवा ध्रुवीय ग्रिड अंकित किया जाता है और धातु के विरूपण से बनी विकृत ग्रिड के विश्लेषण से स्थानीय विकृतियों का ज्ञान किया जाता है।

Picking

उदग्रहण
अयस्क-संसाधन की एक विधि। इसमें कणों को उनके प्रकाशिक गुणधर्मों अथवा रेडियोऐक्टिवता के अनुसार हाथ से अथवा यंत्र की मदद से पृथक किया जाता है।

Pickling

पिकलन
धातृ के पृष्ठ से रासायनिक वैद्युत विधि द्वारा शल्क, ऑक्साइड आदि को हटाना ताकि निर्मल पृष्ठ प्राप्त हो जाए किंतु मूल धातु पर कोई विशेष प्रभाव न पड़े। इसके लिए धातु को किसी अम्ल अथवा क्षार में डुबाया जाता है और मूल धातु पर उसकी क्रिया न हो इसके लिए कोई निरोधक (Inhibitor) मिलाया जाता है।
उल्लोल पिकलन (Surge pickling) विशल्कन की एक विधि जिसमें उपचार की जाने वाली चादरी धातु अवयव को उर्ध्वाधर स्थिति में पिकलन टंकी में रखा जाता है और अभिकर्मक को पृष्ठ के विरूद्ध प्रवाहित किया जाता है।

Pickling brittleness

पिकलन भंगुरता
शल्क हटाने के लिए इस्पात का विशेष रूप से इस्पात के तारों और चादरों का तनु अम्ल में उपचार करने से अथवा विद्युत लेपन से उत्पन्न होने वाला तन्यता-ह्रास। इसका कारण हाइड्रोजन का अवशोषण है। इसे अम्लीय भंगुरता (Acid brittleness) भी कहते हैं।

Pick method

उदग्रहण विधि
देखिए– Picking

Pidgeon process

पिजन प्रक्रम
सिलिकन द्वारा निस्तापित (Calcined) डोलोमाइट के अपचयन से मैग्नीशियम धातु प्राप्त करने की विधि। यह विधि निर्वात भ्राष्ट्र में ही संभव होती है।

Search Dictionaries

Loading Results

Follow Us :   
  Download Bharatavani App
  Bharatavani Windows App